Neeri Tablet Uses In Hindi – नीरी टैबलेट के उपयोग और दुष्प्रभाव

Neeri tablet uses in hindi की सम्पूर्ण जानकारी

अगर आपके किडनी में पथरी यानि की kidney stone की शिकायत है या फिर urinary track infection (UTI) है – जैसे की बार बार पेशाब लगना, पेशाब के रास्ते जलन महसूस होना, कमर के पिछले हिस्से में दर्द या UTI से सम्बंधित कोई भी बीमारी हो तो ऐसी स्तिति में NEERI tablet का प्रभाब काफी अच्छा होता है। इस हिंदी आर्टिकल में Neeri tablet uses की पूरी जानकारी आपको मिलनेवाले है । 

नमस्कार दोस्तो, आज की इस लेख में हम आपको बताएँगे नीरी टेबलेट के बारे में। क्या है इसके फायदे, किस तरह से उसको उपयोग करना चाहिए साथ ही इसके क्या-क्या साइड इफेक्ट्स है, इसके प्राइस और किस कंपनी द्वारा इस दवा को बनाया जाता है ? उन तमाम महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बिस्तार से जानने के लिए कृपया करके इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े ताकि आप इस नीरी टैबलेट का पूरा लाभ उठा सकें। तो आइए दोस्तो नीरी टेबलेट की जानकारी के साथ आगे बढ़ने से पहले सबसे पहले यह जानलेते है की नीरी टेबलेट होता क्या है ?

Neeri tablet uses in hindi  की संकिप्त जानकारी….

दोस्तो, नीरी टेबलेट या नीरी सिरप दोनों ही  पूरी तरह से आयुर्वेदिक फॉर्मूले से बनाया गया है, इसके कोई भी किसी भी प्रकार का केमिकल का प्रयोग नहीं किया गया  है, बल्कि इसके अंदर जितने ही सामग्री दी गई है इसमें सभी के सभी पियर आयुर्वेदिक तत्व से भरपूर है। Aimil कंपनी दवारा बनाया गया यह टेबलेट बहुत ही पॉपुलर और इफेक्टिव है जिसकी कीमत सिर्फ 149 /- (15 tables) रुपये में आपको सभी मेडिकल स्टोर में आसानी से मिलजाएँगे।

neeri tablet uses in hindi

 

Aimil Neeri Tablet में दी गई सामग्री – Neeri Tablet Active Ingredients In Hindi

दारुहल्दी – यह छूट लगने की बजह से होनेवाली सूजन को कम करने में सहायक होते है। और साथ ही हमारे लिवर की कार्योसमता को एक्टिव रखने के साथ साथ होनेवाली संक्रमणों से भी बचती है।

गोखरू – यह भी छूट लगने की बजह से होनेवाली सूजन को कम करने में सहायक होते है। इसके अलाबा यह दवा पेशाब के जरिये सरीर से टॉक्सिक पदार्थ और अतिरिक्त पानी को बाहर निकलने में मदद करती है। और सिर्फ यह ही नहीं, येह दवा हमारी कामेच्छा को बढ़ाने का काम करता है।

पुनर्नवा – यह औषधि सरीर से अतिरिक्त पानी को मूत्र के रूप में बाहर निकलने के लिए उपोयोगी होता है।

सहदेवी – यह एक ऐसी दवा है जो पेशाब आने की जो प्रक्रिया होते है उसको बेहतर करती है।

वरुण – यह औषधि किसी भी छूट लगने से होनेवाली सूजन को कम करती है। साथ ही साथ येह बैक्टीरियल इंफेक्शन को रोखने या बैक्टीरिया को ख़त्म करने में सक्षम होते है।

पाशनभेदा – यह पदार्थ हमारी शरीर को ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस यानी की हमारी कोशिकाओ को केमिकल रिएक्शन की बजह से होनेवाली नुक़्सानो से बचाती है। साथ ही साथ यह दवा हमारी शरीर को संक्रमणों की जोखिम से भी काफी हद तक बचाती है।

शिलाजीत – यह दवा सूजन को कम करती है। और इसका उपयोग पुरुषों की कामेच्छा को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

जाने नीरी टेबलेट का उपयोग कैसा करना चाहिए 

अब आइए दोस्तो अब हम आपको बता देते है इसके उसेस के बारे में। दोस्तो इसका उसेस अगर आपके गुर्दे में पथरी यानि की kidney stone की शिकायत है साथ ही साथ पीट के पिछले हिच्चे में दर्द होता है या फिर यूरिनरी ट्रैक इन्फेक्शन है (UTI) जैसे की बार बार पेशाब लगना, पेशाब के रास्ते जलन होना ऐसी समस्याओ में neeri टेबलेट को लिया जा सकता है। यह टेबलेट किडनी को स्वस्थ रखने के लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल होता है। अगर आपको पथरी की समस्या है तो दोस्तो यह टेबलेट पथरी को गलाने में काफी हद तक मदद करता है।

नीरी टेबलेट की उन जानकारी के साथ कुछ जरुरी सुझाब

नीरी टेबलेट को लेने के साथ साथ आपको कुछ महत्वपूर्ण बिषय के बारे में जानकारी होनी चाहिए। दोस्तो नीरी टेबलेट को लेने के साथ साथ आपको रोजाना पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। पानी ज्यादा पीने से किडनी में बने पथरी आसानी से पेशाब के जरिये बाहर निकल जाते है। इसके अबला आप रोजाना सुबह खली पेट हलके गर्म पानी में निम्बू का रस मिलकर उस पानी को जरूर पीये, इससे भी किडनी में बने स्टोन को निकलने में काफी हद तक आसानी हो सकती है। इसके अलाबा सुभे की समय हल्का एक्सरसाइज या युगासना की अभ्यास जरूर करें क्यों की पथरी को निकलने के लिए येह अभ्यास एक बेहतरीन तरीका हो सकता है। किडनी स्टोन की स्तिति को आगे बढ़ने से रोखने के लिए खान पान के प्रति ध्यान रखना भी आबश्यक होता है। किडनी स्टोन में क्या खाये और क्या नहीं (Diet for kidney stone ) जानने के लिए इस वीडियो को देख सकते है।

अब दोस्तो आपको बता देते है इसके डोसेस के बारे में – Neeri Tablet Dosage In Hindi.

दोस्तो अगर आप नीरी सिरप का यूज़ करते है तो इसका जो डोसेस है वह 5 से 10 ml एक कप हलके गर्म पानी के साथ अच्छी तरह से मिलाकर दिन में दो बार भोजन के बाद लेना चाहिए।  और बच्चों के लिए 2.5 ml दिन में दो बार आधा कप हलके गर्म पानी में मिक्स करके ले सकते है। अब दोस्तो अगर नीरी टेबलेट की dosage की बात करें तो एडल्ट के लिए दो दो गोलिया सुबहे – साम दो बार खाने के बाद लिया जा सकता है। और बच्चो के लिए एक एक गोलिया सुभे – साम दो बार खाने के बाद ले सकते है।  अगर आप इस टेबलेट को डॉक्टर के एडवाइस से लेते हो तो येह आपके लिए अच्छा हो सकता है। प्रेगनेंसी के दौरान नीरी टेबलेट या सिरप उनमे से कोई भी सेफ नहीं है। इसी दौरान अगर आपको इस दवा का जरुरत पड़े तो अपनी डॉक्टर से एक बार एडवाइस जरूर ले लीजियेगा।

Note – नीरी टेबलेट 8 साल के निचे बच्चे को नहीं दिया जाता है। 12 साल के निचे बच्चे को एक एक गोली सुभे साम दिया जा सकता है। 
नीरी टेबलेट की बुरी प्रभाब – Neeri tablet side effects.

दोस्तो अगर हम इस टेबलेट की साइड इफेक्ट्स की बात करें तो इसका नोमाली कोई साइड इफेक्ट्स नहीं दिखा जाता है।अगर आपको इस टेबलेट को लेने के बाद कोई भी साइड इफेक्ट्स का महसूस होता है तो आप अपनी डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

निचे दिए गए पोस्ट भी पढ़ सकते है….

Leave a Comment